Monday, February 16, 2009

कॉकी के बहाना सँ


परिस्थिति- जँ रेस्तरां में एक कॉफीक मग में माछी खसि पडय

स्थिति १- अगर ग्राहक फ्रेंच भेल

मंदी के ध्यान में राखि ओ कॉफी पी लेत, बिल चुकाकर गाम पर आवि जायत


स्थिति २- अगर ग्राहक चाइनीज भेल

चाइनीज ग्राहक कॉफी फेंक देत आ माछी खाकअ बिल देत। एहो संभव अछि ति ओ ऐहेन यंत्र बनावि जेहिमें बेसी सँ बेसी माछी कॉफी में खसल करऐ।


स्थिति ३- जं ग्राहक इस्रायली होवऐ

ग्राहक कॉफी फ्रेंच के बेच देत. माछी चीन के बेच देत। आ भेटल पाइ सँ तेहेन यंत्र बनाओत ताकि आगासँ माछी कॉफी में नहि खसि सके


स्थिति ४- जँ ग्राहक फलीस्तीनी भील


कॉफी में माछी देखकअ एहिमें इस्रायलक हाथ होवअकऐ हल्ला-गुल्ला करत। संयुक्त राष्ट्र आ अरब मुस्लीम समुदाय सँ अनुदानअक अपील करत। भेटल पाइ सँ हथियार कीनकँ इस्रायल पर हमला करत।


स्थिति ५- जौँ ग्राहक भारतीय भेल

कॉफी में पड़ल माछी हटाओत, आधा कप कॉफी पीकअ माछी के फेर सँ कप में धअ देत। हल्ला करअत कि हम उपभोक्ता फोरम में जा रहल छी। रेस्तरां ओकरा धोखा देओल.,.. आधा कप कॉफी तहियो में माछी .लेकिन मैनेजमेंट के बुझओला पर मानि जायत। साफ कॉपी पीकअ संतुष्ट होयत कि एक कप कॉफी के पाय में डेढ़ कप कॉपी पी लेलहुं।

1 comment:

Gajendra Thakur said...

bad nik, pet phulabay vala